कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा आएंगे सीएम शिवराज, लाडली बहनों के साथ खाएंगे खाना, क्या है मामा का प्लान

22
0

छिंदवाड़ाः विधानसभा चुनाव में भले ही छिंदवाड़ा ने बीजेपी का साथ नहीं दिया। लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अभी भी बुरा नहीं माना है। इसके उलट वो सबसे पहले छिंदवाड़ा में ही जनता का आभार व्यक्त करने बुधवार 12:00 बजे पहुंचने वाले हैं। सीएम शिवराज यहां सिर्फ जनसभा को संबोधित कर जनता का आभार व्यक्त करने नहीं आ रहे है। जनसभा के साथ ही शहर के पातालेश्वर वार्ड में एक आदिवासी कार्यकर्ता के यहां भोजन भी करेंगे। उनके इस दौरे को लेकर सियास गलियारों में लोकसभा चुनाव को लेकर चर्चाएं तेज हुईं।

दरअसल, छिंदवाड़ा में पातालेश्वर एक अकेली ऐसी वार्ड है जहां बोजेपी को जीत मिली है। ऐसे में कार्यकर्ता को उत्साहित करने के लिए मुख्यमंत्री का यह फार्मूला वाकई में काबिले तारीफ है। इसके साथ ही सीएम की छिंदवाड़ा दौरे को लेकर राजनीतिक जानकारों का कहना है कि वह अब मिशन 2024 की तैयारी में जुड़ गए हैं। एक आदिवासी कार्यकर्ता के घर भोजन करने के बाद वह यही संदेश देने की कोशिश कर रहे हैं कि विधानसभा चुनाव ही नहीं अब लोकसभा चुनाव में भी पूरी तैयारी के साथ भाजपा यहां मिली पराजय को जीत में परिवर्तित करने की कोशिश करेगी।

सातों सीटों पर मिली हार, अब लोकसभा पर फोकस
अपने पिछले दौर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने छिंदवाड़ा की जनता को ऐसा भरोसा दिलाया था कि चुनाव जीतने के बाद वह सबसे पहले छिंदवाड़ा आएंगे। अपना वादा निभाते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान छिंदवाड़ा आ रहे हैं। यहां सातों सीट पर मिली करारी हार के बावजूद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कार्यकर्ताओं के मन में फिर से नहीं ऊर्जा भरकर लोकसभा चुनाव की तैयारी का रोड मैप तैयार करेंगे। देखना यह भी दिलचस्प होगा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान छिंदवाड़ा से बंपर जीत के बाद कौन सा संदेश देंगे।

भाजपा के लिए गुटबाजी है बड़ी चुनौती

कमलनाथ के गढ़ में बीजेपी ने जिस तैयारी के साथ अपने दिग्गजों को चुनाव मैदान में उतारा था उसके मुताबिक परिणाम नहीं आए ऐसे में कहीं ना कहीं पार्टी में भीतर घात की आवाज उठ रही है। ऐसे मुख्यमंत्री तमाम सभी नेताओं को एक मंच पर लाकर लोकसभा चुनाव में पूरी दमखम के साथ जुट जाने को लेकर भी सन्देश देंगे। हालांकि पार्टी के अंदरूनी सूत्रों की माने तो कुछ बड़े पदाधिकारी की शिकायत की गई है जिन्होंने विधानसभा चुनाव में पार्टी का काम नहीं किया है देखना दिलचस्प होगा कि क्या मुख्यमंत्री के दौर में सभी नेताए एक साथ नजर आएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here