Home देश

लाइट पेग तो दवा है! इस गफलत में मत रहिए, कैंसर हो सकता है….एक बूंद शराब भी खतरनाक

31
0

अपने देश में आपने कई लोगों के मुंह से यह कहते सुना होगा, ‘लाइट-लाइट लो, दवा है’। नहीं समझें? पीने के शौकीन कुछ ऐसी ही बात करते मिल जाएंगे। ‘अरे कुछ नहीं होता, ज्यादा नहीं पीना चाहिए कि नाली में गिर जाओ, थोड़ा छोटा पेग बनाओ, वो एक दवा है…।’ क्या सच में दवा है? अगर आपके दिमाग में कुछ ऐसी बात पहले से है तो उसे निकाल दीजिए। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आगाह किया है कि एक पेग या दो या एक ग्लास वाइन भी सेहत के लिए अच्छी नहीं है। मदिरा के शौकीनों के लिए यह बैड न्यूज हो सकती है लेकिन जान से बढ़कर भी तो कुछ नहीं है। आम धारणा है कि कम मात्रा में अगर लिकर पीजिए तो कोई नुकसान नहीं है। जी नहीं, राजधानी दिल्ली के कई कार्डियोलॉजिस्ट और कैंसर का इलाज करने वाले एक्सपर्ट डॉक्टरों का साफ कहना है कि WHO ने बिल्कुल सही कहा है। शराब शरीर के लिए ठीक नहीं है।

डॉक्टरों का कहना है कि कार्डियो प्रोटेक्शन में शराब की थेरपी जैसी कोई भूमिका नहीं है, यहां तक कि कम मात्रा में भी यह हमारे शरीर को भारी नुकसान पहुंचा सकती है। डॉक्टर कैंसर का भी इशारा कर रहे हैं। हमारे सहयोगी अखबार TOI को एम्स के कार्डियोलॉजिस्ट अंबुज रॉय ने बताया कि हमें यह समझना होगा कि कई स्टडीज में सामने आया है कि पश्चिमी देशों से बिल्कुल उलट भारतीयों या दक्षिण एशियाई लोगों के लिए शराब का सेवन हर तरह से नुकसानदायक होता है। इससे हार्ट को कोई फायदा नहीं होता है। एक स्टडी में अंबुज भी शामिल रहे हैं। उन्होंने बताया कि शराब पीने से कैंसर का जोखिम होता है, जो अब साबित भी हो चुका है। एक्सपर्ट ने कहा कि ऐसे में हमारे पास स्वास्थ्य के लिहाज से शराब पीने की कोई वजह नहीं है।

पीना कोई दवा नहीं है

धर्मशिला नारायण सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में कार्डियोलॉजी के डायरेक्टर डॉ. आनंद कुमार पंढेर ने कहा कि यह कहना गलत है कि शराब की कम मात्रा लेना सेफ है। उन्होंने कहा, ‘अगर कोई एल्कोहल नहीं पीता है तो पीने के लिए थेरपी के तौर पर सलाह नहीं दी जाती है। हालांकि अगर कोई पीता है तो उससे कम से कम मात्रा तक खुद को सीमित करने के लिए कहा जाता है।’ आमतौर पर ऐसा देखा जाता है कि लोग फिल्में देखकर या पार्टी में झूठी शान के चक्कर में शराब पीना या सिगरेट पीना शुरू करते हैं। आजकल कॉलेज लाइफ में ही बच्चों में यह चस्का बढ़ता जा रहा है, जो खतरनाक है।

पीने से ब्लड प्रेशर बढ़ेगा और…

फोर्टिस रिसर्च इंस्टिट्यूट गुरुग्राम के कार्डियो सर्जरी डिपार्टमेंट के डायरेक्टर डॉ. यू. धीर ने कहा कि एल्कोहल निश्चित रूप से नुकसानदेह है। उन्होंने बताया कि शराब अवसाद देने वाली चीज है और यह हमारे मसल्स को कमजोर करती है, जिसमें हार्ट भी शामिल है। उन्होंने समझाया कि एल्कोहल की कम मात्रा भी ब्लड प्रेशर बढ़ाती है और ज्यादा बीपी से कार्डियोवस्कुलर बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता है, आगे चलकर ब्लॉकेज या अंगों को नुकसान पहुंच सकता है।

शराब कैंसर की नंबर 1 वजह

मैक्स कैंसर इंस्टिट्यूट के चेयरमैन डॉ. हरित चतुर्वेदी ने कहा कि ब्रेस्ट, लिवर, कोलन, ओरल समेत कई प्रकार के कैंसर का शराब पीने से सीधा संबंध है। यह साबित हो चुका है कि एल्कोहल पीने से हालात खराब होते जाते हैं। उन्होंने कहा कि जहां तक कैंसर का मामला है तो शराब पीने की कोई सुरक्षित मात्रा नहीं है और कम मात्रा भी शरीर को डैमेज करती है।

फोर्टिस अस्पताल गुरुग्राम के मेडिकल आन्कोलॉजी के सीनियर डायरेक्टर डॉ. अंकुर बहल ने स्पष्ट रूप से कहा कि शराब की एक बूंद भी शरीर के लिए नुकसानदायक है। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने साफ बताया है कि शराब कैंसर की नंबर 1 वजह है, मतलब यह ऐसी चीज है जो शरीर में कई तरह के कैंसर की वजह बन सकती है। उन्होंने कहा कि जैसे स्मोकिंग से सीधे फेफड़े का कैंसर हो सकता है, इसी तरह कई ऐसी चीजें हैं जो आगे चलकर शरीर में कैंसर की वजह बन सकती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here