Home सिने-जगत

फिल्म रिलीज से पहले बाबिल ने पिता को किया याद:बोले- बाबा हमेशा कहते थे की अपने अंदर का बच्चा कभी खोने मत देना

47
0

बॉलीवुड के दिवंगत एक्टर इरफान खान के बेटे बाबिल खान जल्द ही फिल्म ‘कला’ से बॉलीवुड में अपना डेब्यू करने वाले हैं।बातचीत के दौरान, अभिनेता ने कहा की उन्हें आज भी अपने पिता के मौत से जुड़े इमोशंस से लड़ रहे हैं। बातचीत के दौरान, उन्होंने अपनी एक्टिंग की शुरूआती जर्नी पर भी बात की। पेश है बाबिल से हुई खास बातचीत के कुछ प्रमुख अंश-

पहली बार कैमरा फेस करने का अनुभव कैसा रहा?

बहुत डर लगा, मैं तो काँप रहा था, कई री-टेक्स किए। सेट पर मैं प्रेशर लेकर गया था, कई सारी उम्मीदें लेकर गया था। तब मैं एक बच्चा था जिसने उस वक्त अपने पिता को खोया था। उस बात को अब दो साल हो चुके हैं और इस दौरान मैंने बहुत कुछ सीखा। मुझे एक तरीका, एक हौसला मिला हैं आगे बढ़ने का। जब पहले दिन शूट के लिए गया था, तब ऐसा बिल्कुल नहीं था। मैं बस ये सोचता था की बाबा (इरफान खान) को किसी भी तरह गर्व महसूस करवाना हैं, उन्हें खुश करना हैं। ये प्रेशर लेकर सेट पर गया था। उस डरे हुए बच्चे को संभालना, जिस तरह हमारी डायरेक्टर (अंविता दत्त) ने मुझे संभाला, मुझसे काम करवाना, ये अनुभव वाकई में स्पेशल रहा।

आपके काम की तुलना इरफान खान से भी होगी, इसके लिए कितने तैयार हैं?

नहीं हूं तैयार। मुझे लगता हैं जब तुलना होंगी तो इससे मेरी तैयारी और भी बढ़ेगी। कैसे तैयार करू? फिलहाल तो ऐसा हैं की मानो आप किसी परीक्षा की तैयारी करके गए हो और सिलेबस के बाहर का कोई सवाल आपको पूछा गया।

पिता की ऐसी कोई बात जिसे आप हमेशा ध्यान में रखकर आगे बढ़े?

वे हमेशा कहते थे की ‘अपने अंदर का बच्चा कभी खोने मत देना’ और ये बात उनकी अभी मुझे एहसास होती हैं। पहले तो मैं बहुत गंभीरता से सोचता था की मैं एक्टिंग करूंगा, क्राफ्ट में ध्यान दूंगा वगैरा वगैरा। लेकिन जब आपकी मैनेजमेंट शुरू होती हैं, प्रमोशन शुरू करते हो तब एहसास होता हैं की अपने अंदर का बच्चा कभी खोने नहीं देना हैं। उस बच्चे को पकड़कर रखना हैं और इस सर्कस में खोने नहीं देना है।

एक्टिंग के अलावा, और कोई टैलेंट जिसे आने वाले समय में एक्स्प्लोर करने नजर आएंगे

पहले तो मैं एक्टिंग पर अपना पूरा फोकस करूंगा, वही एक ऐसा टैलेंट हैं जिसे मैंने हमेशा करने से मना कर दिया था लेकिन उसे एक्स्प्लोर करना चाहूंगा। मैं गाता हूँ और म्युज़िक कंपोज़ भी करता हूँ। तो जब मुझे ऐसा लगेगा की एक्टिंग से थोड़ा ब्रेक लेना हैं तो मैं उस वक्त सिंगिंग क्राफ्ट पर अपना फोकस शिफ्ट करूँगा। दुनिया को मेरी ये स्किल दिखाने की इच्छा हैं।

मां सुतापा कितनी खुश हैं आपके डेब्यू को लेकर?

वो मेरी सबसे बड़ी क्रिटिक हैं। जब दुनिया मेरी तारीफ़ करती हैं तो बस मुझसे कहती हैं की अभी तुम्हें बहुत आगे जाना हैं। हालांकि मैं जानता हूं की अंदर से वो मेरे लिए बहुत खुश हैं, बस ऊपर से अपनी खुशी ज़ाहिर नहीं कर रही ताकि मैं सर पर ना चढ़ जाउ।

आपकी पहली फिल्म बाबा नहीं देख पाएंगे, उन्हें मिस कर रहे होंगे आप?

बहुत ज्यादा। मैं हमेशा इमोशनल ही रहता हूँ। मैं अब तक अपने इमोशंस से लड़ रहा हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here