साक्षात् चण्डी का अवतार थीं रानी दुर्गावती

'साक्षात् चण्डी का अवतार थीं रानी दुर्गावती' ~कृष्णमुरारी त्रिपाठी अटल रानी दुर्गावती एक ऐसा नाम जिनके स्मरण मात्र से वीरता की भावना का ज्वार स्वतः उठने...

साँच कहै ता मारन धावै झूठे जग पतियाना!!

साँच कहै ता मारन धावै झूठे जग पतियाना!! कबीर जयंती/जयराम शुक्ल कबीर कब पैदा हुए कब मरे, हिंदू की कोख से कि मुसलमान की, उन्हें दफनाया...

कबीर के राम

“ कबीर के राम ” ―डॉ.राजेन्द्र कुमार सिंघवी   कबीर भया है केतकी, भँवर भये सब दास । जहाँ-जहाँ भक्ति कबीर की, तहँ-तहँ राम-निवास ।। अर्थात् कबीर के ‘राम’...

अष्टाङ्ग योग का उद्देश्य

अष्टाङ्ग योग का उद्देश्य -प्रियांशु सेठ (वाराणसी) मनुष्य जीवन दो उद्देश्यों से बंधा है- श्रेय: (धर्म-मार्ग) और प्रेय: (भोग-मार्ग)। भोगवादी मनुष्य प्रेय: को अपने जीवन का...

तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम्!

तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम्! -जयराम शुक्ल ......................................... श्रीमद्भागवत् गीता, योग, वन्दे मातरम् या राष्ट्रीय स्वाभिमान से जुड़े इन्ही जैसे अन्य विषयों की चर्चा छिड़ती है तो अपने...

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी

झाँसी की रानी सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी, बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी, गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी...

झांसी की अधीश्वरी वीरांगना लक्ष्मीबाई

झांसी की अधीश्वरी वीरांगना लक्ष्मीबाई ―प्रियांशु सेठ स्वराज्य की रक्षा में अपना सर्वस्व निछावर कर देने वाली महारानी लक्ष्मीबाई के जीवन की स्मृतियों का स्मरण कर...

तो ये है राम मन्दिर के जमीन खरीदी की सच्चाई

चिन्दी को सांप भारत में ही बनाया जा सकता है ―कमलेश पारे आजकल हम सब बड़े आश्चर्य के साथ अयोध्या में हुए एक जमीन सौदे को...

महापराक्रमी योध्दा श्रीकृष्ण

महा पराक्रमी योद्धा श्रीकृष्ण –डॉ.पवन विजय कवियों, साहित्यकारों की कल्पना में कृष्ण कोमल, रसिक , श्रृंगार प्रिय और रमणविहारी हैं। लोक और साहित्य दोनों में उनके...

धर्मरक्षक बिरसा मुंडा के जीवन के विविध पहुलओं को समझने की जरूरत

धर्मरक्षक बिरसा मुंडा के जीवन के विविध पहुलओं को समझने की जरूरत ―कृष्णमुरारी त्रिपाठी अटल भारतीय इतिहास में विभिन्न कालक्रम में ऐसे-ऐसे महापुरुष ,प्रवर्तक, समाजसुधारक ,दैवीय...
20,539FansLike
2,325FollowersFollow
0SubscribersSubscribe