व्यंग्य की ऐसी दर्दनाक मौत क्या सोचा था कभी..?

व्यंग्य की ऐसी दर्दनाक मौत क्या सोचा था कभी..? ~ जयराम शुक्ल शरद जोशी ने कोई पैतीस साल पहले "हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे" व्यंग्य निबंध...

छत्रपति शिवाजी और महाराजा छत्रसाल..!

छत्रपति शिवाजी और  महाराजा छत्रसाल..! ~ विजय मनोहर तिवारी अगर किसी महापुरुष के साथ एक भेंट और उसका दिया हुआ एक मार्गदर्शन किसी का जीवन बदल...

अरण्य संस्कृति के सांस्कृतिक अग्रदूत..!

अरण्य संस्कृति के सांस्कृतिक अग्रदूत..! ~कृष्णमुरारी त्रिपाठी अटल भारत वर्ष के पूर्व से पश्चिम -उत्तर से दक्षिण चारों दिशाओं में निवासरत जनजातीय समाज अपनी बहुरंगी-अनूठी सांस्कृतिक...

नौवीं सदी के द्वार की प्रतीक्षा….!

नौवीं सदी के द्वार की प्रतीक्षा..! ~ विजय मनोहर तिवारी अब न मंदिर है। न गर्भगृह। न देवता। केवल द्वार ही शेष है। अत: उसके भीतर...

क्या स्वास्तिक के बारे में आप इतना कुछ जानते हैं ..? ? 

क्या स्वास्तिक के बारे में आप इतना कुछ जानते हैं ? स्वस्तिक अत्यन्त प्राचीन काल से भारतीय संस्कृति में मंगल और शुभता का प्रतीक माना...

अखण्ड भारत : शुभ संकल्प की ओर

अखण्ड भारत : शुभ संकल्प की ओर ~अभिजीत सिंह ज्यादा अतीत में न जायें तो भी 1857 की क्रांति के बाद अंग्रेज प्रशासनिक अफसर जब कलकत्ता...

भारत की शिंडलर्स लिस्ट…!

भारत की शिंडलर्स लिस्ट...! ~ विजय मनोहर तिवारी यहूदियों के नरसंहार पर केंद्रित ‘शिंडलर्स लिस्ट’ अकेली और अंतिम फिल्म नहीं है, जिसने जातीय घृणा से लबालब...

गोस्वामी तुलसीदास जी…!

गोस्वामी तुलसीदास जी...!   "मातु-पिता जग जाय तज्यो ,  विधिहू न लिखी कछु कछु भाल भलाई । नीच , निरादर-भाजन , कादर , कूकर टूकन लागि ललाई ।।"   यह कवितावली...

स्वातन्त्र्य आन्दोलन के प्रेरणापुञ्ज : स्वामी विवेकानंद 

स्वातन्त्र्य आन्दोलन के प्रेरणापुञ्ज : स्वामी विवेकानंद  ~कृष्णमुरारी त्रिपाठी अटल  अमेरिका के शिकागो में सन् १८९३ में सम्पन्न हुई 'विश्वधर्म महासभा' ने विवेकानन्द के रुप में...

आजादी के बाद तबीयत से छले गए हमारे गाँव!

आजादी के बाद तबीयत से छले गए हमारे गाँव! ~जयराम शुक्ल पंचायत सरकार एक जुलाई तक चुन ली जाएगी। विधायकों और सांसदों ने अपने पट्ठे ग्राम...
20,539FansLike
2,325FollowersFollow
0SubscribersSubscribe