Home सिने-जगत

महेश मांजरेकर का 64वां बर्थडे:एक्टर नहीं बल्कि हमेशा से डायरेक्टर बनना चाहते थे

90
0

बॉलीवुड के फेमस एक्टर महेश मांजरेकर आज अपना 64वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं। महेश एक्टर के साथ-साथ डायरेक्टर, प्रोड्यूसर और राइटर भी हैं। उन्होंने 1992 में मराठी फिल्म ‘जीवा सखा’ से अपने करियर की शुरुआत की थी। महेश ने मराठी सिनेमा के अलावा कई हिंदी फिल्मों में भी काम किया है।महेश ने फिल्म ‘वास्तव’ से बॉलीवुड में कदम रखा था। इस फिल्म में महेश की एक्टिंग को काफी सराहा गया और डायरेक्शन के साथ-साथ एक्टिंग भी करने लगे। उन्हें असली पहचान ‘वास्तव’ के तीन साल बाद 2002 में आई फिल्म ‘कांटे’ से मिली। इस फिल्म में उनका राज बल्ली का किरदार दर्शकों को खूब पसंद आया था। उसके बाद से ही उनकी एक्टिंग का सिलसिला भी आगे बढ़ता गया।महेश ने फिल्म ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ में भी काम किया है। इस फिल्म ने कई ऑस्कर पुरस्कार भी जीते थे। फिल्म में महेश एक डॉन के रोल में नजर आए थे। उन्हें हिंदी सिनेमा में फिल्म ‘प्लान’, ‘जिंदा’, ‘मुसाफिर’, कांटे, ‘दस कहानियां’, ‘वांटेड’, ‘रेडी’, ‘रन’, ‘शूट आउट एट वडाला’ और ‘दबंग’ जैसी कई फिल्मों में काम किया है।दिलचस्प बात यह है कि महेश एक अच्छे डांसर भी हैं, उन्हें 2006 में ‘झलक दिखला जा’ में दूसरा रनर-अप घोषित किया गया था। उसके बाद 2018 में महेश ने ‘बिग बॉस मराठी’ के पहले सीजन को होस्ट भी किया था। बता दें महेश हमेशा से फिल्मों में डायरेक्टर के तौर पर पहचान बनाना चाहते थे। हालांकि उन्हें एक्टर के रूप में लोग ज्यादा पसंद करते हैं। इसके अलावा वो टीवी के भी कई शो कर चुके है। साथ ही वो कई नेशनल अवॉर्ड भी अपने नाम कर चुके हैं।महेश को पिछले साल कैंसर डिटेक्ट हुआ था। उसके बाद उनकी सर्जरी हुई, जिसके बाद अब वो कैंसर मुक्त हो चुके हैं। महेश ने इसका खुलासा ‘अंतिम’ के ट्रेलर रिलीज के दौरान किया था। उन्होंने कहा था कि ‘अंतिम’ की शूटिंग के दौरान, उन्हें कैंसर का पता चला था। फिल्म में उन्होंने आखिरी हिस्से की शूटिंग तब की थी जब उन्हें कैंसर था और उनकी कीमोथेरेपी चल रही थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here