Home विंध्य की खबरे

पीएम आवासों की चोरी का आरोपी निलंबित पीसीओ भी गिरफ्तार:रहिकवारा में तत्कालीन सरपंच और जीआरएस के साथ मिल कर किया था घोटाला

52
0

जनपद पंचायत नागौद की ग्राम पंचायत रहिकवारा में प्रधानमंत्री आवासों की चोरी के तीन आरोपियों में शामिल निलंबित पंचायत समन्वय अधिकारी भी अंततः पुलिस के हत्थे चढ़ गया। वह आत्म समर्पण की कोशिश में था लेकिन इससे पहले ही पुलिस ने उसे दबोच लिया।

हासिल जानकारी के मुताबिक जनपद पंचायत नागौद अंतर्गत ग्राम पंचायत रहिकवारा में हुई 61 पीएम आवासों की चोरी के सनसनीखेज मामले के आरोपी निलंबित पंचायत समन्वय अधिकारी राजेश्वर कुजूर को नागौद पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया।

वह आत्म समर्पण करने की फिराक में था लेकिन इससे पहले कि वह अपनी कोशिश में कामयाब हो पाता,पुलिस उस तक पहुंच गई। हालांकि अक्टूबर में मुकदमा दर्ज होने के बाद से ही फरार निलंबित पीसीओ की तलाश में पुलिस उसके गांव अंबिकापुर तक भी गई लेकिन वहां वह हाथ नही आया था।

प्रदेश भर को हिला कर रख देने वाले पीएम आवासों की चोरी के इस मामले में रहिकवारा पंचायत में पदस्थ रहे पीसीओ राजेश्वर कुजूर के साथ ग्राम रोजगार सहायक बृजकिशोर कुशवाहा तथा तत्कालीन सरपंच बलवेंद्र सिंह भी आरोपी हैं। बृजकिशोर अभी जेल में है जबकि पूर्व सरपंच बलवेंद्र सिंह ने गिरफ्तारी के बाद अस्पताल में ही रहते हुए हाईकोर्ट जबलपुर से जमानत हासिल कर ली।

बता दें कि रहिकवारा के हितग्राहियों ने कलेक्टर अनुराग वर्मा से अपने आवास चोरी होने की शिकायत की थी। शिकायत में 61 आवासों की 1 लाख 20 हजार रुपए प्रति आवास के मान से राशि हड़प लिए जाने की बात सामने आई थी।

ग्रामीणों की शिकायत पर कलेक्टर ने जांच कराई तो पता चला कि हितग्राहियों के नाम स्वीकृत पीएम आवासों की राशि का आहरण तो हुआ लेकिन आवास नही बने। राशि भी हितग्राहियों तक नहीं पहुंची।

सीईओ जिला पंचायत ने शुरुआती जांच में 8 आवासों के घोटाले की पुष्टि होने पर 26 अक्टूबर को तत्कालीन सरपंच बलवेंद्र सिंह,पीसीओ राजेश्वर कुजूर और जीआरएस बृजकिशोर कुशवाहा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। कलेक्टर ने पीसीओ राजेश्वर कुजूर को निलंबित और जीआरएस बृजकिशोर को टर्मिनेट कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here