मुनीम साहब!!

मुनीम साहब —आशुतोष राना हमारे यहाँ एक मुनीम साहब थे, जोड़ घटाने में अत्यंत निपुण। बाबूजी उनको समाधानी कहते थे, ऐसा नही है कि वे हर...

नशा और नंगई के बीच नौनिहाल!

नशा और नंगई के बीच नौनिहाल! ज्वलंत/जयराम शुक्ल अब यह बताने की जरूरत नहीं कि मासूमों के साथ बलात्कार फिर हत्या जैसे अपराधों का सैलाब क्यों...

वैद्यराज नमः तुभ्यं यमराज सहोदरः!

वैद्यराज नमः तुभ्यं यमराज सहोदरः! साँच कहै ता/जयराम शुक्ल दो मसले मुझे हमेशा बहुत परेशान करते हैं। एक डाक्टरों की पर्ची और दूसरी बड़ी अदालतों के...

राहुकाल से लोकतंत्र के निकलने की शेषकथा!

राहुकाल से लोकतंत्र के निकलने की शेषकथा! -जयराम शुक्ल चाटुकारिता भी कभी-कभी इतिहास में सम्मान योग्य बन जाती है। आपातकाल के उत्तरार्ध में यही हुआ। पूरे...

जब जेपी की हुँँकार से सिंहासन हिल उठे!

यादों में आपातकाल-दो जब जेपी की हुंकार से सिंहासन हिल उठे! ―जयराम शुक्ल कांग्रेस के अध्यक्ष देवकांत बरुआ का नारा इंदिरा इज इंडिया गली कूँचों तक गूँजने...

मीसा की कलुष स्मृतियाँ : क्रूरता की पराकाष्ठा और धैर्य से प्रतिउत्तर देते लोकतंत्र...

मीसा की कलुष स्मृतियाँ : क्रूरता की पराकाष्ठा और धैर्य से प्रतिउत्तर देते लोकतंत्र के सेनानी –डॉ विकास दवे (निदेशक, साहित्य अकादमी म. प्र.) 25 जून का...

यादों में आपातकाल- एक अनुशासन का शर्मनाक यातना पर्व!

यादों में आपातकाल- एक अनुशासन का शर्मनाक यातना पर्व..! -जयराम शुक्ल पंद्रह अगस्त, छब्बीस जनवरी यदि सरकारी आयोजन न होते तो पब्लिक इन्हें कब का भुला चुकी...

साक्षात् चण्डी का अवतार थीं रानी दुर्गावती

'साक्षात् चण्डी का अवतार थीं रानी दुर्गावती' ~कृष्णमुरारी त्रिपाठी अटल रानी दुर्गावती एक ऐसा नाम जिनके स्मरण मात्र से वीरता की भावना का ज्वार स्वतः उठने...

साँच कहै ता मारन धावै झूठे जग पतियाना!!

साँच कहै ता मारन धावै झूठे जग पतियाना!! कबीर जयंती/जयराम शुक्ल कबीर कब पैदा हुए कब मरे, हिंदू की कोख से कि मुसलमान की, उन्हें दफनाया...

कबीर के राम

“ कबीर के राम ” ―डॉ.राजेन्द्र कुमार सिंघवी   कबीर भया है केतकी, भँवर भये सब दास । जहाँ-जहाँ भक्ति कबीर की, तहँ-तहँ राम-निवास ।। अर्थात् कबीर के ‘राम’...
20,539FansLike
2,325FollowersFollow
0SubscribersSubscribe